Monday, August 6, 2012

गर शबाब होता ......

दो दिन पहले यानि अगस्त को बिलासपुर जिला कांग्रेस कमेटी {ग्रामीण} के अध्यक्ष अरुण तिवारी का एक वर्ष का कार्यकाल पूरा हुआ ! कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने की ख़ुशी में एक बैठक जिला कांग्रेस कार्यालय में रखी गई ! कई एजेंडों के बीच एक साल के कार्य-काल का लेखा जोखा भी शेयर किया जाता रहा ! संगठन को मजबूत करने की आपसी राय के बीच मसाले में चिकन और मीट भी पक रहा था ! तिवारी जी ने एक साल पूरा होने की ख़ुशी में पार्टी दी थी ! कांग्रेस भवन में देश के वीर सपूतों और आदर्श महापुरुषों की फोटो के नीचे मांस-मटन के पकने की खुशबु एक ओर जहां कई कांग्रेसियों की भूख बढ़ा रही थी वहीँ कई कांग्रेसी नानवेज कहूँ या काकटेल पार्टी देख हतप्रभ रह गए ! नानवेज के पकते ही औपचारिक बैठक ख़त्म हो गई ! इसके बाद कांग्रेस भवन किसी बार से कम नजर नही रहा था ! बकायदा शराब-बीयर की व्यवस्था के साथ हाशिये पे जा चूका कांग्रेस संगठन मजबूत हो रहा था ! कुछ ने शराब-कबाब के साथ शबाब मिल जाने तक की बात कह डाली ! हालाकि दबी जुबान से कुछ कांग्रेसियों ने अगले बरस की पार्टी में उसकी {शबाब}भी व्यवस्था करवाने का भरोसा दिलाया है ! इस ख़ास मौके पर मिडिया भी आमंत्रित था ! कुछ ने शराब-कबाब का मजा लेकर आत्मा को संतुष्ट कर लिया मगर कुछ की आत्मा जिन्दा थी सो सुबह { अगस्त} अखबार में कांग्रेस संगठन की मजबूती की खबर को तीन कालम की जगह मिल गई ! जो नही जानता था वो भी जिला कांग्रेस कमेटी के नए अध्यक्ष की ख़ुशी से वाकिफ हो गया ! दूसरे दिन खबर तो ये भी आती रही कि कुछ पुश्तेनी कोंग्रेसी कांग्रेस भवन को गंगा जल से शुद्ध करने वाले है
   वैसे जो इस बार हुआ वो यक़ीनन बिलासपुर जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकाल का पहला सुअवसर था ! कोंग्रेसियों ने पहली बार कांग्रेस भवन में पके चिकन-मटन का लुत्फ उठाया ! जिनको बुरा लगा या जिनको तिवारी जी की ख़ुशी का काकटेल अंदाज पसंद नही आया उनका पेट दूसरे दिन मरोड़ता रहा ! यहाँ वहां जाकर कभी संगठन से इस्तीफ़ा तो कभी आलाकमान से शिकायत का जिक्र करते रहे ! कुछ ने कहा जैसा नंदू भैया {नंदकुमार पटेल} चाह रहे थे वैसा हो रहा है ! मै आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की अरुण तिवारी  प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार पटेल की खोज है ! उनको पूरे जिले में एक भी ऐसा कांग्रेसी नजर नही आया जिसके कंधे पर कांग्रेस को एकजुट करने का बोझ डाला जा सके ! तभी तो एक भगोड़े को जिले की जिम्मेदारी दे दी गई जिसकी घर वापसी को भी ज्यादा दिन नही हुआ है ! ये वो तिवारी जी है जिन्होंने सन १९९८ यानि अविभाजित मध्यप्रदेश के जमाने में सीपत से टिकट ना मिलने पर कांग्रेस की खूब फजीहत की और निर्दलीय चुनाव लड़े ! इन्होने कांग्रेस प्रत्याशी चंद्रप्रकाश बाजपेयी के खिलाफ चुनाव लड़कर उन दिगज्ज नेताओं को बुरा-भला कहा जिनकी प्रतिमाओं के नीचे तीन दिन पहले ही मटन-चिकन बनवाया गया ! इन्होने १९९९ में सुषमा स्वराज के समक्ष भाजपा में प्रवेश किया ! सुषमा जी १९९९ में एक चुनावी सभा को संबोधित करने कोरबा आई हुईं थी !लगता है तिवारी जी उसी खीज को इस अंदाज में मिटा रहे है !  जिले में हाशिये पर चुकी कांग्रेस की जड़ो में मठा डालने की कोशिश मुझे अब तक तो सफल नजर आती है,पता नही कोंग्रेसी कितना गुड फील कर रहे है ? अब देखना ये होगा की अगले बरस की पार्टी में शराब-कबाब ही रहता है या फिर शबाब की व्यवस्था होगी ! फिलहाल तो आलोचना के भंवर जाल से निकलने के लिए तिवारी जी ये कहते फिर रहे है मांस-मटन कौन नही खाता ? क्या अटल बिहारी बाजपेई नानवेज नही खाते ? ऐसे तमाम तर्क है तिवारी जी की जुबान पर लेकिन वो ये भूल रहे है की बाजपेई जी ने कभी भी भाजपा के दफ्तर में बैथ्कत चिकन-मटन नही खाया होगा ना ही आदर्श मानने वालों की प्रतिमाओं के नीचे नानवेज पकवाया होगा ....! खैर हाशिये पर गई कांग्रेस को मजबूत करने शराब-कबाब की सख्त जरूरत उन कांग्रेसियों को ज्यादा है जिनको गाहे-बगाहे लोग दल-बदलू भी कह देते है

No comments:

Post a Comment